हमारी कोशिश है एक ऐसी दुनिया में रचने बसने की जहाँ सत्य सबका साझा हो; और सभी इसकी अभिव्यक्ति में मित्रवत होकर सकारात्मक संसार की रचना करें।

Saturday, May 9, 2009

हिन्दी ब्लॉगिंग की दुनिया... गोष्ठी की तस्वीरें

 

निर्धारित कार्यक्रम आशातीत सफलता पूर्वक सम्पन्न हुआ। ब्लॉगिम्ग की पढ़ाई की रिपोर्ट तो बाद में दे पाऊंगा। अभी तस्वीरें देखिए:

Image026  बैकड्रॉप

ज्ञान दत्त पाण्डेय

समय के पाबन्द: ज्ञानदत्त जी

IMG_0203

अनूप शुक्ल, कविता वाचक्नवी, ज्ञानदत्त पाण्डेय

अनूप जी,

(बाएँ से)अनूप जी, कविता जी, ज्ञानजी, मुख्य अतिथि अपर पुलिस महानिदेशक एस.पी. श्रीवास्तव, डॉ.अरविन्द मिश्रा

IMG_0186

संयोजक-संचालक:इमरान प्रतापगढ़ी

IMG_0204

यहाँ भी शेरो-शायरी

IMG_0178

फूलों से स्वागत

बुके

बुके२

बुके५

बुके३ 

IMG_0185

कतार फूलों की

दीप

आओ दीप जलाएँ

दीप (3) दीप (4)

दीप (5)

दीप (6)

दीप (2)

दीप (7)

IMG_0209

विषय प्रवर्तन: सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी

IMG_0213

IMG_0215

जिज्ञासु श्रोता

IMG_0216

अनूप ‘फुरसतिया’ जी

IMG_0217

कैसे शुरू हुई ब्लॉगिंग?

IMG_0218

तब दुनिया इतनी चमकीली नहीं थी

IMG_0221

डॉ. अरविन्द मिश्रा

IMG_0222

साइंस ब्लॉगिंग में अलग क्या है?

IMG_0224

स्मृति चिह्न के लिए ‘ब्रेक’ हुआ, मु.अ. को जल्दी जाना था

IMG_0228

हमें भी मिला जी...!

IMG_0226

धन्यभाग जो आप पधारे

IMG_0232

अब तक अंग्रेजी में ब्लॉग था, आज ही हिन्दी में खोल लूंगा: मु.अ.

IMG_0234 

ब्लॉग का शीर्षक आकर्षक हो, सर्च के ‘चालू’ शब्द जानें

IMG_0235

कविता जी की बारी

IMG_0241

हिन्दी में कम्प्यूटिंग

IMG_0238

हिन्दी अनुप्रयोग

प

सचिव- हिन्दुस्तानी एकेडेमी डॉ.एस.के.पाण्डे (सबसे दाएँ) 

मेरी इच्छा थी कि इस राष्ट्रीय सेमिनार उर्फ़ ब्लॉगिंग की कक्षा की सफलता के किस्से और वार्ताकारों की खास बातें इनकी जुबानी ही सुनाता चलूँ। लेकिन अभी इतना ही। बाकी सब कुछ भी ठेलूंगा। लेकिन ब्रेक के बाद। नमस्कार...!

(सिद्धार्थ)

45 comments:

  1. सिद्धार्थ जी ,

    आपको और इमरान जी को इस आयोजन के लिये अनेक धन्यवाद . चित्रोन को देख आनन्द हुआ . आशा है विवरण भी जल्दी पढने / देखने (विडिओ) को मिलेगा .
    मेरा खयाल है कि Dr. S. K. PANDEY , प्रयाग विश्वविद्यालय के भूतपूर्व अध्यक्छ श्याम क्रिष्ण पान्डेय जी ही हैन . उन दिनो मैन भी उन्की कैबिनेट मे था .
    जुलायी २००७ मे निउ योर्क के विश्व हिन्दी सम्मेलन मे मुलाकात भी हुयी थी . उनसे मेरा नमस्कार कहियेगा .
    आयोजन के लिये एक बार फ़िर बधायी !

    ReplyDelete
  2. आयोजन के चित्र प्रेषित करने के लिए धन्‍यवाद .. आयोजन की सफलता के लिए आप सबों को बहुत बहुत बधाई .. विवरण का भी इंतजार है।

    ReplyDelete
  3. चित्र के माध्यम से लगा कि हम आयोजन स्थल पर पहुँच गये..बेहतरीन..मजा आ गया. अब डिटेल रिपोर्ट का इन्तजार है.

    ReplyDelete
  4. अरे वाह ! सिद्धार्थ जी रात सोये नहीं क्या ? यह चित्र वीथिका ही सजाते रहे !
    आगे रिपोर्ट की प्रतीक्षा है !

    ReplyDelete
  5. लग रहा है कि हम भी वहीं हैं
    इतना ब्‍लॉगमस्‍त आयोजन
    प्रफुल्लित सिर्फ पुष्‍प ही नहीं
    मौजूद हैं सभी जन आनंदित।

    ReplyDelete
  6. सबसे पहले तो चिट्ठा-गोष्ठी आयोजन का विचार आना ही बहुत महत्व का है, उसे कार्यरूप देना तो और भी महत्वपूर्ण है। इतनी महान-महान हस्तियाँ अपना कीमती समय बचाकर इसमें सहर्ष शामिल हुईं यह उससे भी महत्वपूर्न है। और सबसे महत्वपूर्ण है कि अन्य नगरों और कस्बों के जागरूक चिट्ठाकर इससे प्रेरणा लेकर ऐसे ही सफल आयोजन करेंगे।

    इस आयोजन के लिये सभी प्रतिभागियों, आयोजकोंेवं प्रत्यक्ष वा परोक्ष योगदान करने वालों को साधुवाद।

    ReplyDelete
  7. कार्यक्रम की भव्‍यता से ही सफलता का आकलन हो रहा है। विस्‍तृत रिपोर्ट और सुपरिणाम का इन्‍तजार रहेगा। बधाई।

    ReplyDelete
  8. घर के भाग्य तो ड्योडी से ही पता चल जाते हैं चित्र बहुत सुन्दर हैं विस्तृ्त रिपोर्ट का इन्तज़ार रहेगा धन्यवाद

    ReplyDelete
  9. ये आयोजन तो बहुत बढ़िया रहा.. आशा है जिस प्रयोजन से ये सेमीनार हुआ था उस पर खरा उतरा.. हमें पता होता तो कोशिश करते वहां आने की.. विस्तृत विवरण के लिए इन्तेज़ार कर रहे है..

    ReplyDelete
  10. सभी चित्र बहुत अच्‍छे आये है, लेने वाले भविष्‍य के कलाकार जो थे। प्रयाग की धरती पर महान ब्‍लागरों को एक साथ देखना वास्‍तव में अनोखा रहा, अनूप जी ज्ञान जी और सिद्धार्थ जी से तो पूर्व मिलना हुआ ही था किन्‍तु कविता जी और डॉ.अरविन्द मिश्रा जी सहित अन्‍य चिट्ठाकारो का मार्गदर्शन नव-ब्‍लागरों का मार्ग दिखायेगा।

    कार्यक्रम का आयोजन अच्‍छा रहा लगा कि कुछ परिश्रम की आवाश्‍यकता थी।

    ReplyDelete
  11. आपके इतने स्नेह आमंत्रण के बाद भी विश्वविद्यालय के कार्यों की व्यस्तता के चलते मैं इस आयोजन में भाग न ले सका जिसका मलाल मुझे लम्बे समय तक रहेगा .सफल आयोजन के लिए आपको बहुत -बहुत बधाई .

    ReplyDelete
  12. बधाई अच्छे आयोजन के लिये..

    ReplyDelete
  13. इस बेहतरीन और शानदार आयोजन के लिए सब को, आयोजकों और प्रतिभागियों को बहुत बहुत बधाइयाँ। चित्र बताते हैं कि जो वहाँ नहीं था उसे मलाल अवश्य रहेगा।

    ReplyDelete
  14. आयोजन के चित्र प्रेषित करने के लिए धन्‍यवाद ....

    ReplyDelete
  15. द्विवेदी जी
    बिल्‍कुल सही कह रहे हैं आप
    लाल वाला मलाल।

    ReplyDelete
  16. चित्र-रिपोर्ट ने पूरी कहानी कह दी है । इतना अनुभव एक साथ इकट्ठा खो गया हो तो सफलता तो निश्चित ही थी । शेष की प्रतीक्षा ।

    ReplyDelete
  17. ’खो गया’ को ’हो गया’ पढ़ा जाय । क्षमा-प्रार्थी ।

    ReplyDelete
  18. बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  19. विस्तृत रिपोर्ट का इंतजार है। इलाहाबाद हमेशा से भाग्यशाली रहा है…।:)

    ReplyDelete
  20. वाह...इसे कहते हैं फोटो-रिपोर्ट. फोटो ही फोटो में पूरी कहानी कह दी भाई आपने. फोटो अपलोड करने में कहीं कोई कंजूसी नहीं. ऐसे लगा कि मैं भी वहीँ था.

    ReplyDelete
  21. चित्र सजीव लगे अब विस्तार से विवरण का इंतज़ार है.

    ReplyDelete
  22. तो दिल्ली में बैठे भाई लोग क्या कर रहे हो, सिर्फ टिप्पणीकार ही बने रहोगे या फिर कभी आयोजक की भी भूमिका में आओगे। आयोजन को लेकर किसी भी तरह की मदद की जरुरत हो...मैं हूं न।

    ReplyDelete
  23. बहुत बढ़िया। मजा आ गया लेकिन,अफसोस कि समय न होने से इसमें शामिल न हो सका।

    ReplyDelete
  24. आयोजन के चित्र प्रेषित करने के लिए धन्‍यवाद ....

    ReplyDelete
  25. चित्र सूचना हेतु आभार
    आयोजकों को बधाई
    भीड़भाड़ भी काबिल-ए-तारीफ़
    बताइये बधाई का ट्रक किधर
    भेज दूं
    सादर
    आपका गिरीश मुकुल

    ReplyDelete
  26. बहुत सुखद लगा. बिल्कुल जीवंत बना दिया आपने इस पो्स्ट को. बधाई और शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  27. सफल आयोजन के लिए बधाई. लेकिन फोटो से काम नहीं चलेगा. पूरी रिपोर्ट दीजिए.

    ReplyDelete
  28. इस आयोजन के लिये बधाई । रिपोर्ट का इन्तज़ार रहेगा ।

    ReplyDelete
  29. अनूप शुक्लजी, कविताजी,अरविंद मिश्रजी तथा इस चित्र विथिका के संयोजक सिद्धार्थ जी को बधाई। जब इतने दिग्गज ब्लागर इतने सारे पुष्प गुच्छों के बीच रहेंगे तो ताज़ा हवाएं बहेंगी ही। कार्यक्रम के संयोजकों को बधाई।

    ReplyDelete
  30. वाह! एक बेहतरीन चित्र कथा।

    संयोजकों को बधाई।
    उपस्थित ब्लॉगर साथियों को बधाई

    रिपोर्ट की प्रतीक्षा

    ReplyDelete
  31. सिद्धार्थ जी
    आपने एक सफल कार्यक्रम का आयोजन किया इसके लिए आपको ढेर सारी शुभकामनाएं

    इमरान ने भी अच्छा सञ्चालन किया
    जब ब्लॉग्गिंग का परिचय दिया गया तब ये जरूरी था की ब्लॉग बनाने की प्रक्रिया की भी स्लाइड बना कर दिखाई जाये जिसकी कमी खली
    मुख्य अतिथी जी ने जब ब्लोगिंग पर बोलना शुरू किया वो पल यादगार है क्योकि मैंने तो कल्पना नहीं की थी की वो भी एक ब्लॉगर हैं
    फोटो देख कर लगा की एक बार फिर से उस समय पर पहुँच गए हो आप सभी के बीच में

    ऐसा आयोजन बार बार हो इस कामना के साथ
    आपका वीनस केसरी

    ReplyDelete
  32. बहुत-बहुत बधाई सफ़ल एवं भव्य आयोजन के लिये।

    ReplyDelete
  33. बहुत अच्छा लगा सचित्र रीपोर्ट देखकर - आभार !

    ReplyDelete
  34. बहुत बहुत शुक्रिया कि चित्रों के जरिये आपने हमें इलाहाबाद ही पहुंचा दिया। हम भी लगभग मौजूद रहे इस आयोजन में।
    अब रिपोर्ट का इंतजार है। भरपूर चित्र प्रस्तुति ने आनंदित किया।

    ReplyDelete
  35. सिद्धार्थ जी, यदि आरम्भ के सभी चित्रों के नीचे कैप्शन में दे सकें तो नए पाठकों को प्रमुख व्यक्तियों को पहचाने में मदद मिलेगी।

    ReplyDelete
  36. सुन्दर। कैमरे ने हमेशा की तरह हमारी फोटो नेचुरल ही खींची। अच्छी खींचना उसके बस में नहीं जी।

    ReplyDelete
  37. सफल आयोजन के लिए ढेर सारी बधाईयां। यदि कोई वीडियो भी हो तो उसको यूट्यूब पर लगाएं। हम प्रवासियों को तो ऑनलाइन कवरेज का ही सहारा है भई।

    ReplyDelete
  38. Sab se milna iska sab se sukhad paksha tha.
    Chitravali ke lie aabhaar.

    ReplyDelete
  39. इलाहाबाद किसी तरह से फिर सक्रिय है यह जानकर अच्छा लगा.....बहुत सारी बधाई....

    ReplyDelete
  40. चित्र सँजोने योग्य हैं ।
    आयोजन की कोई अग्रिम सूचना न थी,
    या हम ही बेखबर थे ?

    ReplyDelete
  41. khoob khoob badhai..dil se bhai....

    ReplyDelete
  42. चित्र तो बढ़िया रहे अब ऊपर पढ़ता हूँ :)

    ReplyDelete
  43. इतने भव्य आयोजन के लिए बधाई। चित्र बहुत बढ़िया आए हैं।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारे लिए लेखकीय ऊर्जा का स्रोत है। कृपया सार्थक संवाद कायम रखें... सादर!(सिद्धार्थ)