हमारी कोशिश है एक ऐसी दुनिया में रचने बसने की जहाँ सत्य सबका साझा हो; और सभी इसकी अभिव्यक्ति में मित्रवत होकर सकारात्मक संसार की रचना करें।

Wednesday, December 31, 2008

वर्ष २००९ शुभ हो.... जय हिन्द !!!

 
 
 
आदरणीय चिठ्ठाकार मित्रों
व सभी
स्नेही स्वजनों को
वर्ष २००९
की हार्दिक शुभ कामनाएं
सादर!
 
(सिद्धार्थ)

11 comments:

  1. नया साल आप के जीवन में ढेर सारी नयी खुशियाँ लाए!

    ReplyDelete
  2. हे प्रभु यह तेरापथ के परिवार कि ओर से नये वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये।

    कल जहॉ थे वहॉ से कुछ आगे बढे,
    अतीत को ही नही भविष्य को भी पढे,
    गढा हैहमारे धर्म गुरुओ ने सुनहरा इतिहास ,
    आओ हम उससे आगे का इतिहास गढे
    2.........

    पुरब मे हर रोज नया ,
    सूरज अब हमे उगाना है।
    अघिकारो से कर्तव्यो को,
    ऊचॉ हमे उठाना है।
    ज्ञान ज्योति से अन्तर्मन,
    के तम का अब अवसान करना है।
    छोडो सहारो पर जीना,
    जिये विचारो पर अपने।
    सही दिशा मे शक्ती नियोजिन,
    करे फले सारे सपने।
    स्वय बनाये राह,
    स्वय ही चरणो को गतिमान करे।


    BLOG NAME:=:
    HEY PRABHU YEH TERA PATH
    URL ADRESS:=:
    http://ombhiksu-ctup.blogspot.com/

    BLOG NAME:=:
    MY BLOGS
    URL ADRESS:=: http://ctup.blog.co.in

    ReplyDelete
  3. नव वर्ष की आप और आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनाएं !!!नया साल आप सब के जीवन मै खुब खुशियां ले कर आये,ओर पुरे विश्चव मै शातिं ले कर आये.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  4. नया साल नई आशाये नई उमंगें लेकर आपको और प्रसिद्दि ,प्रतिष्टा प्रदान करे .
    Regards

    ReplyDelete
  5. मंगलमय हो जी नव वर्ष।

    ReplyDelete
  6. आपको भी नया साल मुबारक हो सिद्धार्थ जी...
    जै जै

    ReplyDelete
  7. सिद्धार्थ जी, इलाहाबाद में आपसे व परिवार से मिलना सुखद रहा, पांडे जी व रीता भाभी ने भी वहाँ आकर जो सौजन्यता दिखलाई, उसके लिए आप सभी की कृतज्ञ हूँ। आपके परिवार की हृदयग्राही आत्मीयता से सराबोर हूँ। लगा, साहित्य का असली प्रयोजन (सहित भाव) सध गया। आशा है, परस्पर यह आत्मीयता स्थायी हो ।

    बच्चों को स्नेह आशीष व प्यार दें। आप सभी के लिए अनन्त मंगल कामनाएँ।

    ReplyDelete
  8. मंगलमय नववर्ष !

    ReplyDelete
  9. आपको व् परिवार को नव वर्ष शुभ हो....

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारे लिए लेखकीय ऊर्जा का स्रोत है। कृपया सार्थक संवाद कायम रखें... सादर!(सिद्धार्थ)