हमारी कोशिश है एक ऐसी दुनिया में रचने बसने की जहाँ सत्य सबका साझा हो; और सभी इसकी अभिव्यक्ति में मित्रवत होकर सकारात्मक संसार की रचना करें।

Tuesday, July 27, 2010

वर्धा में ब्लॉगर सम्मेलन की तिथि दुबारा नोट कीजिए…

ब्लॉगर सेमिनार की तिथि याद है न आपको? अरे वही जो मैने यहाँ आपको बतायी थी, और महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय की वेब साइट पर भी इसकी सूचना चिपकायी गयी थी। हिंदीसमय डॉट कॉम पर भी इस वार्षिक सम्मेलन का सूचना-पत्र प्रकाशित हुआ था। इतने जतन के बाद भी यदि आपको इस तिथि की जानकारी नहीं है तो हम इतना ही कर सकते हैं कि ……….आपको दुबारा इस तिथि की याद दिला दें।
हमें अफ़सोस तो है लेकिन क्या करें। मामला ही कुछ ऐसा बन पड़ा कि पिछले साल की ही तरह इस साल भी इसका मुहूर्त ठीक से नहीं देखा जा सका। कुलपति जी ने इसे जल्दी से जल्दी कराने के उद्देश्य से चटपट तारीख तय कर दी थी। लेकिन नतीजा एक बार फिर पिछले साल की ही तरह निकला। जी हाँ, इस बार भी इसकी तिथि एक बार आगे खिसकाने की नौबत आ गयी है। इसलिए जिन्हें पूर्व घोषित तिथि याद नहीं है उन्हें चिन्ता करने की कोई जरूरत नहीं। अब नयी तिथि सोच समझकर तय कर ली गयी है। इसे जरूर याद रखिएगा।
ढूँढिए- फुरसतिया, छींटे और बौछार,सुदर्शन, आलसी, क्वचिदन्यतोऽपि, शब्दों का सफर, प्राइमरी का मास्टर, अनन्त अन्वेषि, अनामिका प्रकाशन आदि-आदिइलाहाबाद का ब्लॉगर सम्मेलन- मील का पत्थर 
दरअसल, इस बार पहले जो तारीख तय की गयी थी वह बहुत अच्छी और शानदार थी। कुछ ज्यादा शानदार, इतनी शानदार कि हम इस दिन की सारी खुशियों को यहाँ वर्धा में समेट ही नहीं पाते। यह बात अलग है कि इसके इतना शानदार होने का ध्यान हमें बाद में आया। यह तारीख इतनी मुकद्दस और खुशियाँ लाने वाली थी कि हम घबरा कर पीछे हट गये। जी हाँ, मुझे कहने में और आपको पढ़ने में थोड़ा अजीब जरूर लगेगा, लेकिन बात ऐसी ही है कि हमें इस मुबारक तारीख की नेमत इतनी बड़ी लगी कि हमने इसे सम्हाल पाने में अपने को नाकाबिल पाया और दूसरी तारीख खोजने चल पड़े।
आप तो समझ ही गये होंगे कि मैं ११-१२ सितंबर की बात कर रहा हूँ जो पहले की तय तारीख थी। अब हमें पता चला है कि उस समय रमजान का आखिरी दिन होगा और सारा देश ईद मुबारक की खुशियों में डूबा रहेगा। ऐसे में यहाँ ब्लॉगरी का मजमा लगाकर अपनी भद्द पिटवाने का इन्तजाम भला कौन करेगा? सो उस समय हम भी घूम-घामकर ईद मनाएंगे। सेवइयाँ खाएंगे और जब यह निपट जाएगा तो नये जोशोखरोश से नयी तारीख पर ब्लॉगरी का सम्मेलन भी कराएंगे। कोशिश होगी कि यह इलाहाबाद सम्मेलन से भी बड़ा हो और ऊंचा उठे।
मित्रों, अब बता ही देता हूँ कि ईद मुबारक की तारीख से टकराने के कारण ब्लॉगर गोष्ठी की तारीख टालकर नयी तारीख तय कर ली गयी है। अब यह सम्मेलन ९-१० अक्टूबर, २०१० को आयोजित होगा। कुलपति जी ने इस तिथि की पुष्टि करते हुए आवश्यक तैयारियों का निर्देश जारी कर दिया है। तिथि परिवर्तन के अतिरिक्त बाकी सब बातें पूर्ववत रहेंगी। ……बाकी बातें क्या? …अच्छा, लीजिए फिर एक बार दुहराए देते हैं:
  • यह कि हिन्दी ब्लॉगरी का राष्ट्रीय सम्मेलन महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा द्वारा आयोजित किया जा रहा है।
  • सम्मेलन स्थल वर्धा विश्वविद्यालय का प्रांगण होगा, जो महाराष्ट्र में नागपुर से सत्तर किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।
  • दो दिवसीय कार्यक्रम के पहले दिन अनुभवी विशेषज्ञों के माध्यम से एक कार्यशाला आयोजित कर हिन्दी चिठ्ठाकारी के तकनीकी कौशल और ब्लॉग प्रबन्धन के उपयोगी सूत्र इच्छुक विद्यार्थियों और अन्य पंजीकृत अभ्यर्थियों  को सिखाये जाएंगे।
  • कार्यशाला में प्रतिभाग के इच्छुक अभ्यर्थियों को निर्धारित प्रारूप पर सूचना प्रेषित करते हुए अपना पंजीकरण कराना होगा। पंजीकरण का कार्य सामान्यतः पहले आओ-पहले पाओ नियम के आधार पर किया जाएगा। निर्धारित संख्या पूरी हो जाने पर पंजीकरण का कार्य कभी भी बन्द किया जा सकता है।
  • प्रत्येक पंजीकृत अभ्यर्थी को रु. १००/- मात्र पंजीकरण शुल्क कार्यशाला प्रारम्भ होने से पहले जमा करना होगा। पंजीकृत अभ्यर्थियों को उनके पंजीकरण के सम्बन्ध में सूचना उनके द्वारा बताये गये ई-मेल पते पर भेंजी जाएगी। पंजीकरण फॉर्म डाक द्वारा अथवा ई-मेल द्वारा सीधे संयोजक को प्रेषित किए जा सकते हैं। बाकी सूचना यहाँ अथवा यहाँ से प्राप्त की जा सकती है।
  • कार्यक्रम के दूसरे दिन देश भर के नामचीन ब्लॉगर्स का सम्मेलन होगा। कम से कम चार अध्ययन पत्र पढ़े जाएंगे और उनपर खुली बहस होगी।
  • इस बार जिस विषय पर चर्चा होगी वह है- ब्लॉगरी की आचार संहिता (blogging ethics)
  • इस विषय के विभिन्न पहलुओं पर अध्ययन पत्र आमन्त्रित किए जा रहे हैं। आशा है हमारे सुधी ब्लोगर्स इस विषय पर अपने विचारों को सुव्यवस्थित ढंग से लिपिबद्ध करके पूरी तैयारी से आएंगे और इस सम्मेलन को एक गम्भीर बहस का मंच बनाएंगे। यदि आप अपनी प्रस्तावित विषयवस्तु की जानकारी पहले से उपलब्ध करा दें तो हमें वार्ताकार और विषय के अनुसार कार्यक्रम निर्धारित करने में सुविधा होगी। अंतिम समय में किसी प्रकार की आकस्मिक प्रस्तुति के प्रस्ताव पर विचार किया जाना सम्भव नहीं होगा। प्रथम आगत-प्रथम स्वागत का सिद्धान्त भी हमारा मार्गदर्शन करेगा।
  • सम्मेलन में विश्वविद्यालय द्वारा आमन्त्रित प्रतिभागियों को आने-जाने हेतु अधिकतम ए.सी. तृतीय श्रेणी के किराये और वर्धा में ठहरने व भोजन इत्यादि की व्यवस्था वि.वि. द्वारा की जाएगी।
  • संयोजक से सम्पर्क का पता:
सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी
आंतरिक संपरीक्षा अधिकारी
महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय
पोस्ट-मानस मंदिर, वर्धा (महाराष्ट्र) 442001
फोन-07152-230912 मोबा.09561646096
ई-मेल: sstwardha@gmail.com
  • आयोजन तिथि दुबारा नोट कीजिए- ९-१० अक्टूबर, २०१०, शनिवार-रविवार।
आशा है कि यह सम्मेलन एक बार फिर हिंदी ब्लॉगिंग की दुनिया में निरंतर हो रही प्रगति का साक्षी बनेगा और यहाँ होने वाला विचार मंथन हिंदी चिठ्ठाकारी की दिशा बताने वाला एक मील का पत्थर साबित होगा। सम्मेलन के संबंध में आपके सुझाव हमारा अमूल्य मार्गदर्शन कर सकते हैं। इस पोस्ट पर आपकी  टिप्पणियों, ई-मेल संदेशों व फोन के माध्यम से  आपके विचारों का स्वागत है।
(सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी)

26 comments:

  1. आयोजन की सफलता के लिए शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  2. तिथि तो नई वाली भी याद कर लीं। 8 और 9 अक्‍तूबर 2010 पर सिर्फ तिथि याद करने से क्‍या होगा ?

    ReplyDelete
  3. date badlna hindustaniyon ki adat hai.rastramandal khelon ke sam
    ay .................

    ReplyDelete
  4. allahabadiyon ki puraani aadat hai,allahabadiyon ke baaren mein kaha jata hai ki agar kisi nakari ke form bharne ke liye jindgi bhar ka samay diya jaye to jindgi ke aakhiri din hi form bharenge,


    thandi ka samay aachha hai, lekin pathar par mausah......

    ek taraf rastramandal khel ....to dusari taraf blog ki duniya walono ka taap,,,,,,,, maza hi maza////////

    ReplyDelete
  5. 8 व 9 अक्टूबर तो शुक्र व शनि है। एक बार देख लें।

    ReplyDelete
  6. प्रवीण जी, ध्यान दिलाने का धन्यवाद। देर रात टाइप करते समय चूक हो गयी। अब गलती सुधार रहा हूँ। कार्यक्रम ९-१० अक्टूबर को शनिवार-रविवार के दिनों में ही होगा।

    ReplyDelete
  7. तिथि तो नोट कर लिया... कुछ काम करने का प्रयत्न करता हूँ.

    ReplyDelete
  8. जानकारी के लिए धन्यवाद !!!!!

    ReplyDelete
  9. आयोजन हेतु मेरी शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  10. सार्थक व सराहनीय प्रयास.लेकिन मैं चाहूँगा की इस ब्लोगर मिलन में सबसे पहले देश के सभी ब्लोगर इस बात पर चर्चा करें की व्यवस्था की बुराइयों के खिलाप लड़ रहें लोगों को सुरक्षित कैसे किया जाय तथा सच्चे,अच्छे,इमानदार व देशभक्त लोगों को देश के किसी भी कोने में सुरक्षा व सहायता पहुँचाने का एक मजबूत तंत्र का निर्माण ईमानदारी व इमानदार लोगों के सहयोग से कैसे तैयार किया जाय | इसकी आज ठीक उसी तरह जरूरत है जैसे किसी देश के साथ युद्ध में हर कोई अपने तरीके से देश के सैनिको को सम्मानित करने व उनके जज्बे को बढ़ाने का प्रयास करता है | आज युद्ध सच्चे,अच्छे,इमानदार और देशभक्तों की बेईमान,झूठे,देश के गद्दार और भ्रष्टाचारियों के से है और हम सबका दायित्व है की इसमें सच्चे,अच्छे,इमानदार और देशभक्तों की विजय के लिए एकजुट होकर तन,मन,धन और निडरता से प्रयास करें |

    ReplyDelete
  11. कार्यक्रम की सफलता के लिए शुभकामनाएँ..

    AC3 से भी चल जायेगा..आज किराया पता कर लेता हूँ टोरंटो टू वर्धा. :)

    ReplyDelete
  12. शारदीय नवराती की शुरूआत वर्धा से हो ऐसा हम भी प्रयास करेंगें.

    ReplyDelete
  13. आयोजन की सफलता के लिए शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  14. मेरे कुछ प्रश्नों का जबाब दें तो ब्लॉग नीति का पता चले .
    १. वि वि में अपने आगमन से अब तक कुल कितना मुद्रा लिया है (इलाहाबाद से आने के भाड़े सहित )
    २.जिस कार्य के लिए आये है उसमे आपकी क्या प्रगति है?
    ३. ब्लॉग सम्मलेन के लिए खर्च कहा से आयेगा . क्या आपने यह जाचने की कोशिश की है की वि वि को मिले धन में से कितना धन सेमीनार पर खर्च किया जा सकता है.
    ४. आप जो ब्लॉग लिख रहे है वह कथनी तक न रहे आगे भी . व्यक्तिगत प्रचार के लिए वि वि में नहीं आये है . काम कीजिये. विशुद्ध पुरोहिती की भाषा से बचे .
    ५ सबको पता है कि आप कुलपति के करीबी है. बार बार बताने की जरूरत नहीं है . अनामिका के माध्यम से पहुचे है न .

    ReplyDelete
  15. 1) "अभ्यर्थी" और "प्रतिभागी" का अन्तर समझाईये।
    2) 100/- की फ़ीस किस बात की है?
    3) "आमंत्रित" मतलब कौन-कौन?

    इलाहाबाद वाला सम्मेलन तो बहुतै सफ़ल था… :) :) :) :) :)

    ReplyDelete
  16. आयोजन की सफलता के लिए शुभकामनाये.....

    ReplyDelete
  17. कुछ टिप्पणियां आने वाले कल की कहानी कहले लगी हैं आज ही, फिर भी आयोजन की सफलता के लिए शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  18. raja se-


    raja ke atarkik aur behooda baton se main baoot dukhi hoon .raja ne blog ka galat use kiya hai.raja ne chhup kar war kiya hai.raja ne apni profile kochhupa karke kayarta ka kaam kiya hai,personal aarop lagaana blog men galat hai,

    tripathi ji hindi ke prati samarpit hai,hindike liye raja ne kya kiya hai ,


    raja ne blog ka galat use kiya hai,isliye hindi jagat dwara inka bahiskaar karna cxhahye,

    raja murdabad ..........

    ReplyDelete
  19. tripathi sir aapse anurodh hai ki aap raja jaise logon ki baton ko dhayan na den , hindi jagat aap se baoot asha karta hai ,


    gandhi ji ki tarha aap raja ko........

    ReplyDelete
  20. raja ji ko himmat ho to apni profile ka khulasa karen

    ReplyDelete
  21. हमारा किराया ऋमबर्स हो जाएगा? कुछ चांस हो तो अप्लाई किया जाय.

    ReplyDelete
  22. आदरणीय सुरेश चिपलूनकर जी,

    यहाँ आने और रुचि दिखाने के लिए धन्यवाद।

    आपके प्रश्नों के संवंध में निम्न निवेदन है-

    1.आप ने ध्यान दिया होगा कि हमने कार्यक्रम के पहले दिन एक वर्कशॉप का आयोजन किया है, जिसमें इच्छुक विद्यार्थी व अन्य नये लोग जो ब्लॉगिंग सीखना चाहते हैं लेकिन इसके तकनीकी पक्ष के बारे में कुछ भी नहीं जानते, अन्तर्जाल की दुनिया से अनभिज्ञ हैं लेकिन कुछ लिखने-पढ़ने का शौक रखते हैं, उन्हें इस कार्यशाला के माध्यम से ब्लॉगिंग संवंधी जरूरी बातें बतायी जाएंगी और प्रायोगिक प्रदर्शन भी किया जाएगा। ऐसे लोगों को अभ्यर्थी की संज्ञा दी गयी है। इस वर्कशॉप में प्रशिक्षण देने के लिए और अगले दिन की विचार गोष्ठी में अपना मत व्यक्त करने के लिए जो अनुभवी ब्लॉगर वि.वि. द्वारा आमंत्रित किए जाएंगे वे हमारे प्रतिभागी कहलाएंगे।

    2.हम चाहते हैं कि वर्कशॉप में प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले अभ्यर्थियों को वि.वि. की ओर से प्रमाणपत्र दें और उस दिन उनके लिए तैयार करायी जाने वाली अध्ययन सामग्री, स्वागत सत्कार, नाश्ता भोजन इत्यादि पर आने वा्ले व्यय की प्रतिपूर्ति पंजीकरण की राशि से की जा सके। इसके अतिरिक्त अभ्यर्थियों की संख्या नियन्त्रित करने के लिए भी पंजीकरण शुल्क एक कारगर उपाय हो सकता है।

    3.हमने इस मंच से अपने ब्लॉगर मित्रों से इस सम्मेलन के लिए अध्ययन पत्र प्रस्तुत करने हेतु प्रस्ताव मांगे हैं। हमें जो प्रस्ताव प्राप्त होंगे उस आधार पर वि.वि. द्वा‌रा सम्मेलन के प्रतिभागियों का चयन किया जाएगा और आमन्त्रण पत्र भेंजे जाएंगे। बजट की सीमा देखते हुए असीमित संख्या का आह्वाहन नहीं किया जा सकता, इसलिए आमंत्रण की मजबूरी है। निजी व्यय पर आने वालों के लिए कोई मनाही नहीं है। हम आप सबका स्वागत करेंगे।

    इलाहाबाद वाले सम्मेलन के बारे में आपके विचारों से अवगत हूँ। पाँच-पाँच स्माइली के लिए धन्यवाद। :)

    ReplyDelete
  23. आयोजन की सफलता के लिए शुभकामनाएं.....

    ReplyDelete
  24. soochna mili, iske liye aapko shukriya,

    koshish karunga ki bataur ek shrota pahuch kar laabh utha sakun, mujh jaisa akinchan agar aise aayojan me pahuch sakaa to mera saubhaagya hoga..

    ReplyDelete
  25. आपको बहुत बहुत बधाई,

    कि आप अपनी सक्रिया बरकरार रखे हुये है। विलम्‍ब से आना हुआ, इसके लिये खेद है।

    अग्रिम शुभकामनाऍं

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारे लिए लेखकीय ऊर्जा का स्रोत है। कृपया सार्थक संवाद कायम रखें... सादर!(सिद्धार्थ)