हमारी कोशिश है एक ऐसी दुनिया में रचने बसने की जहाँ सत्य सबका साझा हो; और सभी इसकी अभिव्यक्ति में मित्रवत होकर सकारात्मक संसार की रचना करें।

Thursday, February 28, 2013

फरवरी यूँ बीती…

अबसे पाँच साल पहले जब मेरी तैनाती इलाहाबाद कोषागार में हुई तो पहली बार मैंने अपने लिए निजी कम्प्यूटर खरीदा। कम्प्यूटर आया तो इन्टरनेट लगा और उसके बाद ब्लॉग से परिचय हुआ। हर्षवर्धन त्रिपाठी ने ब्लॉग खोलने की एबीसीडी बतायी और ज्ञानजी ने गुरू बनकर कुछ बारीक गुर बताये। उसके बाद तो जो हुआ उसे कहने वाले इतिहास की उपमा देते हैं। कोषागार में सरकारी काम करते हुए मुझे ब्लॉग पर लिखने-पढ़ने का ऐसा मौका मिल जाता था कि क्या कहने…! अब खुद ही विश्वास नहीं कर पा रहा हूँ कि कैसे वह जुनून सवार हुआ था मेरे ऊपर।

अब फिर एक बार कोषागार में तैनाती हुई है। इस बार जिम्मेदारी कुछ बड़ी है। रायबरेली आकर मैंने सोचा था कि अब एक बार फिर से अपनी ब्लॉगरी और सोसलगीरी परवान चढ़ेगी; लेकिन देखते-देखते दूसरा महीना निकलने वाला है। आधारभूत सुविधाओं का जुगाड़ करने में समय कुछ ज्यादा ही लग गया। अब जाकर मुझे एक नेट की सुविधा वाला कम्प्यूटर मिल पाया है। आज माह की आखिरी तारीख है। इस पूरे माह में मैं चार-पाँच पोस्टॆं दे सकता था। सामग्री भी मोबाइल से इकठ्ठा करता रहा था लेकिन  पोस्ट नहीं कर सका। आज आपको इसकी झलक दिखाता हूँ इस चित्रावली के माध्यम से। आगे शायद कुछ रोचक लिख सकूँ।

2013-02-17 07.12.32

 

रायबरेली का इन्दिरागान्धी उद्यान जहाँ टहलने वालों को बड़ा सुकून मिलता है

2013-02-17 06.47.28 2013-02-17 06.48.27
2013-02-17 06.52.33 2013-02-17 07.12.03
2013-02-17 06.55.29 2013-02-17 06.53.24

सैनिकों को पेंशन भुगतान करने की ट्रेनिंग के लिए सीडीए(पी.) इलाहाबाद गये तो महाकुम्भ स्नान का पुण्यलाभ भी अर्जित हुआ।

2013-02-19 07.13.32
2013-02-19 13.21.09 2013-02-19 13.20.37
2013-02-21 07.15.57

सोनिया जी के चुनावी क्षेत्र होने का लाभ यहाँ के स्टेडियम को मिला तो जरूर लेकिन अंतर्राष्ट्री स्तर के एस्ट्रोटर्फ़ हाकी ग्राउंड की स्थानीय जनता के हाथों होती दुर्गति देखकर मन दुखी हो गया।

2013-02-28 15.31.31आज महिला हाकी जनपदीय प्रतियोगिता का फाइनल था
2013-02-21 07.01.23
एक गोलपोस्ट की जाली चोर काट ले गये। बताते है कि झूला बनाएंगे
2013-02-26 06.48.03

दूसरी ओर का वेल्वेट कुत्ते नोच ले गये। अब पेन्ट लगेगा।

2013-02-21 07.16.26
पान की पीक-  यत्र तत्र सर्वर्त्र

2013-02-21 07.16.49

पत्थर दे मारा
2013-02-21 07.02.17

ड्रेनेज सिस्टम चालू नहीं हुआ और चैम्बर के ढक्कन चोर उठा ले गये।

उम्मीद है कि सत्यार्थमित्र पर अब फिर से हलचल बढ़ेगी।

(सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी)

8 comments:

  1. वाह इस चित्र -ब्लागरी के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  2. ...मार्च भी ऐसेइ बीत जाएगा। :-)

    ReplyDelete
  3. चित्र आ गए तो अब लिखी हुई पोस्ट भी आ जाएगी ..इन्तजार रहेगा .

    ReplyDelete
  4. ऐसे ही थोड़े कहा गया है कि जनवरी जान ना पडी और फरवरी फुर्र से उड़ गयी?

    कहिये तो मार्च में हम आपसे मिलने आ जाएँ .....शुभ होगा :)
    वैसे सन्डे को मिलते हैं कि नहीं आप?

    ReplyDelete
  5. जय भारत, जय उत्तर प्रदेश, जय रायबरेली (जय बरेली!)

    ReplyDelete
  6. हे ईश्वर, भारत को उनके ही पुत्रों से बचा लो।

    ReplyDelete
  7. चुनाव भी आ गया है। रायबरेली में आपको पोस्टिंग भी मिल गई है। इससे बेहतर जमीन भला ब्लॉगरी के लिए क्या चाहिए। फुल फॉर्म में आइए।

    ReplyDelete
  8. हाय, मेरा नाम oneworldnews है, और मैंने आप का बलौग पढा. वास्तव में य़ह नवीनतम लाइव समाचार के बारे मे शानदार जानकारी है और मुझे यह पसंद है. यदि आप अधिक जानकारी चाहते हैं तो यहा जाएं.- नवीनतम लाइव समाचार

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारे लिए लेखकीय ऊर्जा का स्रोत है। कृपया सार्थक संवाद कायम रखें... सादर!(सिद्धार्थ)