हमारी कोशिश है एक ऐसी दुनिया में रचने बसने की जहाँ सत्य सबका साझा हो; और सभी इसकी अभिव्यक्ति में मित्रवत होकर सकारात्मक संसार की रचना करें।

Sunday, January 1, 2012

जाओ जी, अच्छा है…

 

happy_new_year_2012_by_abu_hany-d4ksy1k_largeअच्छा जी, जाओ !

बड़ी राहत मिलेगी शायद
तुमने एक साल तक हमें परेशान रखा
कितने करोड़
नहीं, कितने अरब
या उससे भी कहीं ज्यादा
चोर उड़ा ले गये

चोर नहीं, डकैत कहना चाहिए
सबकी आँखों के सामने ही तो लूट होती रही
मीडिया जानती थी
टीवी पर रोज डिबेट होती थी
पत्रकार रपट देते थे
सी.ए.जी. की ऑडिट बताती थी
बाबा भी चिल्‍लाते रहे
अन्ना भी अनशन करते रहे
लेकिन तुमने सब हो जाने दिया
नामाकूल !

संसद की दीवारों के भीतर 
लोकतंत्र को कैद करने की कोशिश
फिलहाल सफल हो जाने दी तुमने
रामलीला मैदान और जंतर मंतर  की हुंकार
बन गयी
नक्कारखाने में तूती की आवाज
भ्रष्टतंत्र को तुमने जीत जाने दिया 
तुमने थका दिया इतना कि
लोकतंत्र को बुखार आ गया
थोड़ी सहानुभूति के शब्द सुनाकर तुम भी चलते बने
कुछ लोगों के साथ

मामूल के मुताबिक
तुम्हारी विदाई पर जश्न का माहौल है
लेकिन किसी खुशफहमी में मत रहना
दर‍असल यह तुम्हारे उत्तराधिकारी के आगमन का जश्न है
तुम्हारे जाने से हम भावुक होकर दुखी हो जाएंगे
ऐसा नहीं है
तुम्हारा तो जल्दी से जल्दी चला जाना ही अच्छा है
बुरा मत मानना
लेकिन यह बता देना जरूरी है
तुमने बहुत दुखी किया

बस एक खुशी मिली थी
जब अठ्ठाइस साल बाद एक वर्डकप दिलाया था तुमने
लेकिन इस खेल की एक किंवदन्ती को नहीं दिला सके
एक अदद शतक जो हो सकता था महाशतक
पाजी कहीं के !

तुमसे निजात पाकर
हम नये सिरे से आशा कर सकते हैं
शायद इस बार बिल पास हो जाय
उस कानून का जन्म हो जाय
जिसके लिए एक फकीर ने देश को जगाने का प्रयास किया
शायद उसे इस बार सफलता मिल जाय

लेकिन डर भी है
कौन जाने
तुम्हारे पीछे तुमसे भी ज्यादा
धुर्त और पाज़ी आ रहा हो

इसी लिए हम प्रार्थना कर रहे हैं
अब जो आये वह अच्छा ही आये
नया साल शुभ हो

!!! हार्दिक शुभकामनाएँ !!!

(चित्रांकन : http://weheartit.com/entry/20302771 से साभार)

15 comments:

  1. नववर्ष की पद्यात्मक विदाई पसन्द आयी. सपरिवार आपको और परिजनों को नववर्ष की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  2. पुराने साल के मत्थे कित्ती तोहमत लगा दी। करे कोई भरे कोई!

    नया साल मुबारक हो!

    ReplyDelete
  3. नव वर्ष की शुभकामनायें..।

    ReplyDelete
  4. नये साल में सब अच्छा होगा, यह आशा ले कर श्रीगणेश करते हैं।

    बधाई।

    ReplyDelete
  5. सब कुछ बिल्कुल वही रहेगा,
    जो ठगता है, वही ठगेगा।

    ReplyDelete
  6. बिचारा 2011
    इसी ने तो बताया कि क्या हो रहा है
    इस पर इत्ते इल्जाम!

    ReplyDelete
  7. अच्छी खबर ली है बीते साल की ..अब तो अभिनन्दन है !

    ReplyDelete
  8. बहोत अच्छा लगा आपका ब्लॉग पढकर ।

    नया हिंदी ब्लॉग

    हिन्दी दुनिया ब्लॉग

    ReplyDelete
  9. सिद्धार्थ जी आनन्‍द आ गया। नववर्ष की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  10. लेकिन डर भी है
    कौन जाने
    तुम्हारे पीछे तुमसे भी ज्यादा
    धुर्त और पाज़ी आ रहा हो

    इसी लिए हम प्रार्थना कर रहे हैं
    अब जो आये वह अच्छा ही आये
    नया साल शुभ हो
    tripathi ji apka dar swabhavik hai hamare poorv pradhan mantri Cahandrshekhar ji ne kaha tha " es desh bhrashtachar kabhi khatm nahi kiya ja sakata hai...fil hal apki rachana yatharth se avagat karati hui desh hit ki chintaon ko samete huye hai... bahut bahut abhar.

    ReplyDelete
  11. मामू ने मामूल लिया तो क्या गलत किया :)

    ReplyDelete
  12. बढ़िया प्रस्तुति...नव वर्ष के आगमन पर हार्दिक बधाई और शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  13. बहुत बेहतरीन और प्रशंसनीय.......
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  14. Siddharth ji,
    Theek es yad kiya aapne purane saal ko, lekin aage bhee isse hatakr shayd hi kuchh ho. option to naagnath aur saanpnath ke hi beech hai.

    ReplyDelete
  15. क्या लगाया और भगाया है उस वर्ष को!!

    एक माह तक इस वर्ष को जानने समजने के बाद्……नववर्ष की शुभकाननाएं!!

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारे लिए लेखकीय ऊर्जा का स्रोत है। कृपया सार्थक संवाद कायम रखें... सादर!(सिद्धार्थ)