हमारी कोशिश है एक ऐसी दुनिया में रचने बसने की जहाँ सत्य सबका साझा हो; और सभी इसकी अभिव्यक्ति में मित्रवत होकर सकारात्मक संसार की रचना करें।

Sunday, May 15, 2011

कोलकाता यात्रा का फल

महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय के लिए एक किराये का मकान खोजने के लिए हम कोलकाता गये थे। जी हाँ, वर्धा (महाराष्ट्र) में खुले इस विश्वविद्यालय का एक क्षेत्रीय केंद्र इलाहाबाद में तथा एक कोलकाता में खोले जाने हेतु केंद्र सरकार की ओर से इस साल अनुदान की घोषणा वित्त मंत्री के बजट भाषण में की गयी थी। इस स्वीकृति की प्रत्याशा में इलाहाबाद केंद्र तो दो साल पहले ही प्रारंभ कर दिया गया था; लेकिन इस साल अब कोलकाता में  भी वर्धा ने दस्तक दे दी है।

कोलकाता जाने पर हमें सबसे पहले इस बात की खुशी हुई कि शिव कुमार मिश्र जी से भेंट होने वाली थी। सूचना पाते ही वे ढाकुरिया ब्रिज के पास स्थित आइ.सी.एस.आर. के गेस्ट हाउस आ गये। यूँ तो इंटरनेट पर ब्‍लॉगजगत में उनका जो ऊँचा कद दिखायी देता है वह उनकी  जोरदार लेखनी से संबंध रखता है। लेकिन कोलकाता में मेरे प्रत्यक्ष जब वे आये तो मुझे उनका शारीरिक कद देखकर अपने मन में बनी उनकी तस्वीर को रिवाइज़ करना पड़ा। मैने पता नहीं कैसे उनकी जो तस्वीर मन में बना रखी थी वह एक शानदार व्यंग्यकार ब्‍लॉगर की तो थी लेकिन एक लंबे कद वाले आदमी की नहीं थी।

हम देर तक बातें करते रहे। गेस्ट हाउस वालों ने चाय की आपूर्ति में पर्याप्त विलम्ब किया लेकिन हम उससे परेशान दिखते हुए भी मन ही मन खुश हुए जा रहे थे कि इसी बहाने कुछ देर तक साथ बैठने को मिलेगा।

lava se 034

अंततः हमें बताया गया कि एक मकान देखने जाने के लिए गाड़ी आ गयी है और 'खोजी समिति' के बाकी सदस्य तैयार हो चुके हैं तो हम इस वादे के साथ उठे कि अगले दिन गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर पर आयोजित सेमिनार के उद्‌घाटन में फिर मिलेंगे। अगले दिन हम मिले और दिनभर उस विलक्षण सेमिनार में विद्वान वक्ताओं को सुनते रहे। सबकुछ इतना रोचक था कि शिव जी  को अपने ऑफिस जाने का कार्यक्रम रद्द करना पड़ा। वे तो प्रो.गंगा प्रसाद विमल को सुनने के लिए अगले दिन भी आने का वादा करके गये लेकिन शायद कुछ लिखने-पढ़ने में व्यस्त हो गये।

हमने कोलकाता में आने से पहले ही यहाँ के दो अखबारों में इस आशय का विज्ञापन प्रकाशित कराया था  कि क्षेत्रीय केंद्र खोलने के लिए किराये के भवन की आवश्यकता है। इच्छुक भवन स्वामी संपर्क करें। इसके नतीजे में चार लोगों ने पत्र भेजकर मकान देने का प्रस्ताव दिया था। जब हम इन लोगों से मिले तो पता चला कि असली भवन स्वामी को पता ही नहीं है कि उनके भवन को किराये पर दिये जाने की बात हमसे चल रही है। जिनलोगों ने हमसे सम्पर्क किया था वे सभी कमीशन एजेंट निकले जिसे आमतौर पर दलाल या ब्रोकर के रूप में ख्याति प्राप्त है। इन सबने मिलकर हमें खूब टहलाया। एक से एक विशाल भवनों में ले गये और खाली हिस्सों को दिखाया। एक नौ मंजिला भवन तो ऐसा था जिसमें एक लाख साठ हजार वर्गफीट कार्पेट एरिया होना बताया गया। एक-एक फ्लोर इतना बड़ा था कि 20-T मैच हो जाये। लेकिन किराया सुनकर हम भाग खड़े हुए।  उस बिल्डिंग से  इस बिल्डिंग और इस मंजिल से उस मंजिल जाते-आते हमारा थकान से बुरा हाल हो गया; लेकिन काम    लायक जगह नहीं मिली। कोलकाता में किरायेदारी इतनी महंगी होगी इसका हमें अंदाज  ही नहीं था।

अगले दिन हमारे खोजी दल के एक सदस्य और कोलकाता केंद्र  के प्रभारी पद पर तैनात किये गये डॉ. कृपाशंकर चौबे जी ने हमें महाश्वेता देवी से मिलवाया। आदिवासियों की सेवा और संरक्षण में अपना जीवन तपा देने वाली महाश्वेता जी को देखकर हमारे लिए समय थोड़ीदेर के लिए रुक सा गया। इतने बड़े-बड़े पुरस्कारों और सम्मानों से विभूषित जिस व्यक्ति से हम मिल रहे थे वे सादगी व सरलता की प्रतिमूर्ति बनी एक टेबल लैंप की रोशनी में किताबों के बीच डूबी हुई मिलीं और हम उन्हें अपनी नंगी आँखों से प्रत्यक्ष देख रहे थे। कोई बनावटीपन नहीं था उस घर में। कृपा जी उनके मुँहलगे से जान पड़े।  दूध वाली चाय मांगने लगे; बल्कि जिद करने लगे लेकिन मिली काली चाय ही। उतनी देर को दूध भला कहाँ से आता! कृपा जी बताने लगे कि कैसे एक बार दिल्ली में महाश्वेता जी से मिलने एक्सप्रेस समूह में सम्पादक बने अरुण शौरी और राजेन्द्र माथुर के साथ वे उनके घरपर गये। वहाँ आदिवासियों को बाँटने  के लिए बोरों में तमाम जीवनोपयोगी सामग्री  भरी जा रही  थी। सामान अधिक था और भरने वाले आदमी कम थे। दीदी ने इन लोगों को भी बोरा भरने पर लगा दिया। कुछ ही देर में जब ये पसीना-पसीना हो गये तो बोले-दीदी काम पूरा हो गया। इसपर दीदी ने कुछ और बोरे और सामान मंगा दिये। थोड़ी देर बाद बताया गया कि इन पत्रकार सम्पादकों को वापस फ्लाइट पकड़ने जाना है तो दीदी ने उनकी वहीं से छुट्टी कर दी। मतलब  आदिवासियों के लिए बोरा भरे जाने से अधिक महत्वपूर्ण कोई काम ही नहीं सूझा था इन्हें।

कोलकाता केंद्र के लिए किराये के मकान की समस्या महाश्वेता जी से बतायी गयी। उन्होंने तत्काल फोन उठाया और एक-दो जगह बात की। अगले दिन साढ़े दस बजे एक फ़्लैट देखने का कार्यक्रम तय हो गया।

अगले दिन हम जहाँ गये वह फिल्म अभिनेता स्व. उत्तम कुमार का घर था। बांग्ला फिल्मों के सुपर स्टार जिन्होंने हिंदी में भी  कुछ यादगार फ़िल्में   की थी; जैसे-अमानुष। उनकी पत्नी भी बांग्‍ला फिल्मों की मशहूर हिरोइन हुआ करती थीं। नाम था सुप्रिया मुखर्जी। इन्हीं सुप्रिया जी से हमारी भेंट हुई वहाँ। उत्तम कुमार जी के   भांजे और स्वयं एक अभिनेता जय मुखर्जी भी हमें मिले। उनसे बात हुई तो लगा कि इस शानदार अपार्टमेंट में हमारा केंद्र स्थापित हो सकता है। शर्त बस यह है कि कोलकाता नगर निगम इस रिहायशी मकान का प्रयोग  शैक्षणिक गतिविधियों के लिए करने का लाइसेन्स दे दे। भारतीय भाषा परिषद के भवन से सटा हुआ यह भवन निश्चित रूप से हिंदी विश्वविद्यालय की गतिविधियों के लिए सर्वथा अनुकूल है। सुप्रिया जी की अवस्था अस्सी से ऊपर की हो चुकी है लेकिन उनके चेहरे पर वह स्मित मुस्कान अभी भी पहचानी जा सकती थी जो उनके ड्राइंग रूम में लगी पुरानी फिल्मी तस्वीरों   में उनके चेहरे पर फब रही थी। हमने वहाँ जा कर अपने को धन्य महसूस किया। अलबत्ता संकोच के  मारे हम उनकी तस्वीरें नहीं ले सके जिसकी इच्छा हमें लगातार होती रही।

कोलकाता यात्रा में हमें ऐसा फल प्राप्त होगा इसकी तो हमने कल्पना तक नहीं की थी। जब चले थे तो बहुत कुछ देखने और घूमने का मंसूबा बनाया था लेकिन एक अदद मकान की खोज और सेमिनार में शिरकत के अलावा कहीं आने जाने का मौका ही नहीं मिला। फिर भी हम खुशी-खुशी लौट आये। जितना मिला वह भी कम नहीं है।

लगे हाथों एक चित्र पहेली भी पूछ लेता हूँ। इसके बारे में मैं भी कुछ खास नहीं जानता हूँ। आप में से कोई जानता होगा तो जरूर बतायेगा यही उम्मीद है। तो बताइए यह क्या है जो एक खड़ा और एक औंधा पड़ा है-

 guess-what

यदि कोई इतना भी नहीं बता पाया जितना मैं जानता हूँ तो अगली पोस्ट में उतना मैं बता दूंगा। धन्यवाद।

(सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी)

Saturday, May 7, 2011

कविता बहुत कठिन कर्म है : आलोकधन्वा

alokdhanwa-jiकवि आलोकधन्वा वर्धा विश्वविद्यालय में जब ‘राइटर इन रेजीडेन्स’ के रूप में आये तो सबको उम्मीद हुई कि अब ‘दद्दा’ अपनी वर्षों से बंद पड़ी कलम में नयी स्याही डालेंगे। कुछ और सादे कागजों में अपनी कविता का रंग भरकर उन्हें हमेशा के लिए सहेजकर रखने लायक बना देंगे। विश्वविद्यालय के फादर कामिल बुल्के अंतरराष्ट्रीय छात्रावास (गेस्ट हाउस) में उनके साहचर्य का सुख भोग रहे शिक्षकों व अन्य अंतर्वासियों को जब ख्यातिलब्ध कवि जी अपने तरह-तरह के अनुभव अत्यंत रोचक शैली में सुनाते; अपने प्रेम के बारे में, अपने विलक्षण विवाह के बारे में और फिर उससे उत्पन्न विछोह के बारे में बताते हुए जब वे अपने से दूर चली गयी पत्नी की तस्वीर अपने पर्स से निकालकर दिखाते; और परिसर की सड़कों पर चहलकदमी करते हुए देर रात तक देश-दुनिया की तमाम बातों की चर्चा करते रहते तो यह सहज ही था कि हम सभी उनसे यह उम्मीद लगा बैठते कि वे हिंदी साहित्य जगत को नये सिरे से कुछ अनमोल भेंट देने वाले हैं।

अपनी एक मात्र काव्य पुस्तक में छपी कुल जमा इकतालीस (41) कविताओं से ही आलोकधन्वा ने गम्भीर काव्यप्रेमियों के बीच ऐसा स्थान बना लिया जो बिरलों को ही नसीब होता है। पूरी दुनिया में चर्चित और अनेक भाषाओं में अनूदित उनकी कविताएँ एक दौर में देश के पढ़े-लिखे नौजवानों के दिलो-दिमाग पर छायी रहती थीं और व्यवस्था के प्रति रोष से उत्पन्न आंदोलनों में प्रेरक क्रांतिगीत के रूप में समूहों द्वारा पढ़ी जाती थीं।  आज भी इन कविताओं का महत्व कम नहीं हुआ है।

alokdhanwa-happyइस दौरान विश्वविद्यालय द्वारा अनेक राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय गोष्ठियाँ आयोजित होती रहीं और उनमें इन्होंने लगातार अपनी ओजस्वी और बेलाग बातें प्रभावी ढंग से रखी। सभागारों में आलोकधन्वा के वक्तव्य खूब तालियाँ बटोरते रहे। लोग उनकी बातों पर बहस-मुबाहिसा करते रहे। कंप्यूटर और इंटरनेट की एबीसीडी से भी अनभिज्ञ रहने वाले कवि आलोकधन्वा ने जब ‘चिठ्ठाकारी की आचारसंहिता’ विषयक राष्ट्रीय सेमीनार में अपनी बात रखी तो सबसे अधिक तालियाँ उनके हिस्से में ही आयीं। सभी भौचक होकर देख रहे थे- जब उन्होंने इस माध्यम की तुलना रेलगाड़ी के ईजाद से कर डाली और बोले कि जब पहली बार रेल चलना शुरू हुई तो लोग उसपर बैठने से डरते थे- इस आशंका में कि पता नहीं एक बार चल पड़ने के बाद यह रुक भी पाएगी या नहीं। तमाम डरावनी बातें इस सवारी को लेकर उठती रहीं। लेकिन समय के साथ इसका उपयोग बढ़ा और आज हम इसके बिना सामान्य जीवन की कल्पना नहीं कर सकते।

लेकिन कवि आलोकधन्वा की पहचान तो उनकी कविता है न! सभी उनसे कुछ नये प्रतिमान गढ़ती कविता की आस लगाये रहे। फरमाइशें बढ़ती रहीं और फिर ‘तगादे’ का रूप लेती गयीं।

आखिरकार उन्होंने बड़े मनोयोग से लिखी चार कविताएँ विश्वविद्यालय की साहित्यिक पत्रिका ‘बहुवचन’ को प्रकाशन के लिए उपलब्ध करायीं। पत्रिका छपकर आयी तो चारो ओर इन कविताओं की ही चर्चा होने लगी। सभी अपनी-अपनी राय देने लगे। सबको अलग-अलग कविताएँ पसन्द आयीं। एक समय में `गोली दागो पोस्टर’, `ब्रूनो की बेटियाँ’, ‘भागी हुई लड़कियाँ’ और `जनता का आदमी’ सरीखी कालजयी क्रांतिकारी कविताएँ लिखकर मशहूर होने वाले कवि ने जब नये समय में दूरस्थ प्रेयसी से मुलाकात की आतुरता बयान करती, गाय व बछड़े के ऊपर भावुक बातें करती और आम के बाग़ पर लुभावनी रसपान कराती कविता लिखी हैं तो आभास होता है कि समय के साथ व्यक्ति का कैनवास कैसे बदल जाता है। मानव मन कैसे-कैसे करवट लेता है और उसके निजी अनुभव उसकी वैचारिक प्राथमिकताओं को कैसे बदल देते हैं। कविमन की स्वतंत्रता और उदात्तता दोनो ही के दर्शन इनकी इन कविताओं में होते हैं।

alok-dhanwaमैने अनुरोध किया कि इन चारो कविताओं को इंटरनेट के पाठकों के लिए उपलब्ध कराने की अनुमति दीजिए। वे सहर्ष तैयार हो गये- इस शर्त पर कि उन्हें हूबहू किताब जैसे फॉर्मैट में देना होगा। मैने उन्हें विश्वास दिलाना चाहा तो भी उन्हें संतोष न हुआ। स्वयं ‘बहुबचन’ लेकर मेरे लैपटॉप के सामने बैठ गये। एक-एक हिज्जे को लाइन दर लाइन पत्रिका से मिलाते रहे। उसमें प्रकाशित कविता की कुछ पंक्तियों को  बदलवा दिया, एक-दो नयी पंक्तियाँ भी जोड़ डालीं। रात काफी बीत चुकी थी; लेकिन जबतक वे संतुष्ट नहीं हो गये कि सभी शब्द पूर्णतः शुद्ध और पंक्तियाँ दुरुस्त हो चुकी हैं तबतक बैठे रहे। स्क्रीन पर अपनी कविता को अपलक निहारते रहे- जैसे कोई माँ अपनी नवजात संतान को निहारती है। बार-बार पढ़ते रहे और मुग्ध होते रहे।

मैने कहा- आदरणीय, अब इसे पब्लिक डोमेन में जाने दीजिए, कबतक सीने से चिपकाए रहेंगे!

उन्होंने जवाब दिया- कविता बहुत कठिन कर्म है त्रिपाठी जी, एक-एक लाइन प्रसव वेदना देती है...

आखिर उन्होंने ओ.के. कहा और मैने पब्लिश बटन दबाया। चारों कविताएँ यहाँ नमूदार हो गयीं। हिंदी-समय पर आलोक धन्वा की सभी कविताएँ उपलब्ध हैं। चार नयी कविताओं में से एक आपके लिए यहाँ प्रस्तुत करता हूँ-

 

मुलाक़ातें


अचानक तुम आ जाओ


इतनी रेलें चलती हैं
भारत में
कभी
कहीं से भी आ सकती हो
मेरे पास


कुछ दिन रहना इस घर में
जो उतना ही तुम्हारा भी है
तुम्हें देखने की प्यास है गहरी
तुम्हें सुनने की


कुछ दिन रहना
जैसे तुम गई नहीं कहीं


मेरे पास समय कम
होता जा रहा है
मेरी प्यारी दोस्त


घनी आबादी का देश मेरा
कितनी औरतें लौटती हैं
शाम होते ही
अपने-अपने घर
कई बार सचमुच लगता है
तुम उनमें ही कहीं
आ रही हो
वही दुबली देह
बारीक चारखाने की
सूती साड़ी
कंधे से झूलता
झालर वाला झोला
और पैरों में चप्पलें
मैं कहता जूते पहनो खिलाड़ियों वाले
भाग दौड़ में भरोसे के लायक


तुम्हें भी अपने काम में
ज़्यादा मन लगेगा
मुझसे फिर एक बार मिलकर
लौटने पर


दुख-सुख तो
आते जाते रहेंगे
सब कुछ पार्थिव है यहाँ
लेकिन मुलाक़ातें नहीं हैं
पार्थिव
इनकी ताज़गी
रहेगी यहीं
हवा में !
इनसे बनती हैं नयी जगहें
एक बार और मिलने के बाद भी
एक बार और मिलने की इच्छा
पृथ्वी पर कभी ख़त्म नहीं होगी

-आलोकधन्वा

 

(सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी)