हमारी कोशिश है एक ऐसी दुनिया में रचने बसने की जहाँ सत्य सबका साझा हो; और सभी इसकी अभिव्यक्ति में मित्रवत होकर सकारात्मक संसार की रचना करें।

Friday, October 1, 2010

अयोध्या को विराम दे कुछ और सोचा जाय…?

 

बुधवार की शाम को जब सारा देश साँस रोके वृहस्पतिवार को आने वाले इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले की प्रतीक्षा कर रहा था और चारो ओर आशंका और संशय का वातावरण किसी संभावित विस्फोट  के लिए अपने आपको तैयार कर रहा था उसी समय महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा में एक नयी सांस्कृतिक सुगबुगाहट अपना पहला कदम रख रही थी। यहाँ के फिल्म एवं नाट्यकला विभाग द्वारा अब अपने पाठ्यक्रम के अंग के रूप में वास्तविक रगमंचीय प्रस्तुतियों की शृंखला प्रारंभ करने की योजना बनायी गयी है। इसी को कार्यरूप देते हुए यहाँ के एम.ए.(प्रथम छमाही) के विद्यार्थियों ने कामतानाथ की कहानी ‘हल होना एक समस्या का’ के नाट्य रूपांतर ‘दाख़िला’ का मंचन किया। इस नाटक को देखते हुए हम आनंद रस में डूबे रहे और देश की सबसे ज्वलंत समस्या(?) से अपने को कई घंटे तक दूर रख सके।

आज यदि आप कोर्ट के अयोध्या फैसले की खबरों और इसके मीडिया पोस्टमॉर्टेम से उकताकर कोई नया ठौर तलाश रहे हों तो मैं आपको एक हल्की-फुल्की कहानी के शानदार  मंचन की बात बताना और दिखाना चाहता हूँ।

फिल्म व नाट्यकला विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर और रंगकर्मी अखिलेश दीक्षित द्वारा किए गये इस कहानी के नाट्य रूपांतर एवं निर्देशन में यहाँ के एम.ए. नाट्यकला के नवागत छात्रों ने सीमित संसाधनों के बीच जिस लगन और परिश्रम से यह शानदार प्रस्तुति उपस्थित छात्रों, शिक्षक समुदाय व अन्य आमंत्रित दर्शकों के समक्ष दी वह तारीफ़ के का़बिल थी। खचाखच भरे हाल में जब और लोगों के घुसने की जगह नहीं बची तो विभागाध्यक्ष प्रो. रवि चतुर्वेदी को उसी शाम दूसरा शो कराने की घोषणा करनी पड़ी। नाटक के फर्स्ट शो के तत्काल बाद रिपीट शो भी करना पड़ा। आइए पहले आपको संक्षेप में कहानी बता देते हैं-

डब्बू के पिता एक निम्न मध्यमवर्गीय परिवार के मुखिया हैं जिसमें उनकी पत्नी और उनका बेटा है। वो अपने तीन वर्ष के बेटे डब्बू का एड्मिशन शहर के सबसे बड़े व प्रतिष्ठित कॉन्वेंट स्कूल में कराना चाहते हैं। एड्मिशन फॉर्म हासिल करने से लेकर इंटरव्यू तक तमाम गंभीर प्रयास करने के बावजूद उनके बेटे का प्रवेश उस स्कूल तो क्या किसी दूसरे कम प्रतिष्ठित तथाकथित अंग्रेजी स्कूल में भी नहीं होता। दोस्तों की सलाह पर वे अपने एक दूर के रिश्तेदार जो डी.एम. के स्टेनो हैं, के माध्यम से डी.एम. का सिफ़ारिशी पत्र लेकर स्कूल के फ़ादर/प्रिंसिपल से मिलते हैं जो उन्हें उल्टे पाँव लौटा देता है। कई मुलाकातों के बाद और इसके चक्कर में फ़ादर के कुत्ते से गर्दन पर कटवा लेने के बाद डब्बू के पिता से प्रिंसिपल द्वारा डोनेशन की मांग की जाती है। डोनेशन के लिए अपनी सारी जमा पूँजी और बीबी के जेवर से पैसे जुटाकर सौंप देने के बाद भी फादर की डिमांड पूरी नहीं हो पाती और वह निराश होकर बजरंग बली को कोसता हुआ घर लौट रहा होता है।

रास्ते में उसे अपना लंगोटिया यार फुन्नन मिल जाता है जो जरायम पेशा अपनाने के बाद माफ़ियागिरी करते हुए फुन्ननगुरू बन चुका है। शरीफ़ दोस्त की समस्या सुनकर वह मदद करता है और अपने रसूख के दम पर मिनटों में बिना फीस भरे डब्बू का एड्‍मिशन उसी स्कूल में करा देता है। 

कामतानाथ की यह कहानी दिखाती है कि अंग्रेजी स्कूलों में अपने बच्चों को पढ़ाने की अंधी दौड़ ने एक तरफ़ डोनेशन, कैपिटेशन फीस और ऐसे ही कई भ्रष्ट तरीकों का पोषण तो किया ही है वहीं एक ताकतवर शिक्षा माफ़िया का रास्ता भी बनाया है। निम्न मध्यमवर्ग के प्रायः सभी घरों की यह कमो-बेश वास्तविक कहानी है इसलिए यह दर्शकों से सहज तादात्म्य स्थापित कर लेती है। निर्देशक अखिलेश दीक्षित कहते हैं कि गली-गली में उग आये तथाकथित इंगलिश मीडियम (कॉन्वेंट) स्कूल आम भारतीयों की अंग्रेजी के प्रति गुलामी और अपनी भाषा के प्रति हीन भावना को कैश करते हैं। यह नाटक इसी विडम्बना को चित्रित करता है।

 

यह किसी सिनेमाघर की टिकट-खिड़की पर लगी लाइन नहीं है, बल्कि शहर के सबसे बड़े इंगलिश मीडियम स्कूल में एड्‍मिशन का फ़ॉर्म खरीदने वालों की लाइन है। सबसे पीछे खड़े हैं डब्बू के पापा जिन्हें फ़ॉर्म ब्लैक खरीदना पड़ा। 

डब्बू के पापा

डब्बू का एड्‌मिशन हो गया तो जिंदगी बदल जाएगी। हम भी ‘इंगलिश मीडियम स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे के माँ-बाप’ कहलाएंगे। सोसायटी में इज्जत बढ़ जाएगी।

हाय मेरी किस्मत

अंग्रेजी सीखो नहीं तो मुझे कोई और व्यवस्था करनी पड़ेगी। फर्राटेदार अंग्रेजी बोलने वाली किराये की माँए भी मिलने लगी हैं।

रैपीडेक्स का रट्टा

रैपीडेक्स इंगलिश स्पीकिंग कोर्स का रट्टा चालू आहे। आई गो इंगलिस रीडिंग। यू स्लीप विदाउट ईटिंग…

सीट न मिली तो जमीन पर ही आसन

कुछ रीडर और प्रोफ़ेसर राकेश जी (ओ.एस.डी. संस्कृति) के साथ जमीन पर ही जगह पा सके। कवि आलोकधन्वा (छड़ी के साथ) ने भी नाटक देखा।

फादर के कुत्ते ने काट खाया

फ़ॉदर के कुत्ते का धन्यवाद जिसके काट काने से फ़ादर की सहानुभूति जागी। अपने हाथ से फ़र्स्ट-एड देने लगे तो बात चलाने का मौका मिला।

मंत्र मुग्ध दर्शक

फ़िल्म और नाट्यकला विभाग के अध्यक्ष प्रो रवि चतुर्वेदी को इतनी भीड़ की उम्मीद नहीं थी। हाल छोटा पड़ गया। जो लोग जगह नहीं पा सके उनके लिए दूसरा शो तत्काल बाद कराना पड़ा।

डोनेशन दोगे...

डोनेशन की चार सीटों में तीन भर गयी हैं। चौथी तुम्हें मिल सकती है लेकिन इसके लिए कुछ व्यवस्था…

इस नाटक में सूत्रधार की भूमिका निभाने वाले नीरज उपाध्याय ने अलग-अलग दृश्यों को जोड़ने और कहानी के सूत्र को बीच-बीच में जोड़ने के साथ-साथ कुत्ता, हनुमान, और पानवाला बनकर दर्शकों को हँसी से लोट-पोट कर दिया। डब्बू के पिता की भूमिका में रोहित कुमार ने जोरदार अभिनय क्षमता का परिचय दिया। खासकर संवाद अदायगी में  प्रत्येक पंचलाइन पर उन्होंने तालियाँ बटोरी। डब्बू के सामने हिंदी न बोलने कि मजबूरी में पूजा के समय इशारे से आरती का सामान न मांग पाने की मजबूरी का चित्रण गुदगुदाने वाला था। डब्बू की माँ बनी सुनीता थापा ने भी अपने सयाने अभिनय से एक निम्न मध्यमवर्गीय गृहिणी के चरित्र को सजीव कर दिया। शेष पात्रों में स्कूल के चपरासी की भूमिका में मनीष कुमार और ताऊ की भूमिका में रत्नेश मिश्रा भी सराहे गये।

मैंने यू-ट्यूब पर इस नाटक की कुछ झलकियाँ लगायी हैं जिन्हें आप निम्न लिंक्स चटकाकर देख सकते हैं।

१-पास में डब्बू था इसलिए हिंदी नहीं बोल पा रहा था

२-बीबी के जेवर दाखिले के लिए

३-फुन्नन गुरू का परिचय

४-गाँव से आए लालची ताऊ

प्रसंगवश:

वर्धा विश्वविद्यालय के इस शांत प्रांगण में रहकर देश के बड़े हिस्से में चल रही मंदिर-मस्जिद चर्चा और उससे दुष्प्रभावित दिनचर्या से अक्षुण्ण रहते हुए यहाँ दूसरे जरूरी मुद्दों पर सोचने का अवसर मन को सुकून देता है। अगले २-३ अक्टूबर को चार महान कवियों की जन्म शताब्दी का उत्सव कार्यक्रम यहाँ आयोजित है जिसमें देश के शीर्ष साहित्यकार जु्टकर सच्चिदानंद हीरानंद वात्साययन ‘अज्ञेय’, केदार नाथ अग्रवाल, शमशेर, बाबा नागार्जुन और फैज़ अहमद फैज़ की काव्य यात्रा पर गहन चर्चा करेंगे। उद्घाटन भाषण नामवर सिंह का होगा। बाद में वर्ष पर्यंत देश के अलग-अलग हिस्सों में ऐसे कार्यक्रम कराये जाएंगे।

ब्लॉगरी की आचार संहिता विषयक विचारगोष्ठी व कार्यशाला भी बस अगले सप्ताहांत (९-१० अक्टूबर को) होगी। आमंत्रण पत्र भेजे जा चुके हैं। बड़ी संख्या में वरिष्ठ ब्लॉगर्स ने रेल आरक्षण कराकर सूचना भेज दी है। कुछेक अभी सो रहे हैं। आशा है जल्दी ही जागकर अपना प्रोग्राम बताएंगे। आप सबका स्नेह पाकर मेरा मन बहुत उत्साहित है। बस अब तैयारी पूरी करनी है।

(सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी)

18 comments:

  1. मज़हबी हठधर्मिता अभी विराम की मुद्रा में नहीं है। जीवन चलता रहेगा। मस्तक का घाव लिए अश्वत्थामा अमर है। दुर्गन्ध अमर है। ...
    अयोध्या के साथ साथ नाटक और अन्य आयोजन भी चलते रहें - parallel processing. बहुत अच्छी ज़गह पहुँचे हो और सार्थक योगदान भी कर रहे हो। हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  2. अच्छा लगा नाटक की कहानी और यू ट्यूबिक अंश जान कर...

    बढ़िया रिपोर्ट.

    वर्धा सम्मेलन के लिए अग्रिम शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  3. कहानी सामयिक यथार्थ को अभिव्यक्त करती है, निश्चित ही नाट्य रूपांतरण भी यही करेगा।

    ReplyDelete
  4. नाट्य रुपान्तरण के भाव प्रभावी दिख रहे हैं।

    ReplyDelete
  5. प्रभावी लगता है नाट्य रूपान्तर.अग्रिम शुभकामनाये.

    ReplyDelete
  6. `‘अज्ञेय’, केदार नाथ अग्रवाल, शमशेर, बाबा नागार्जुन और फैज़ अहमद फैज़ की काव्य यात्रा पर गहन चर्चा करेंगे'

    आशा है इसकी रिपोर्ट भी इसी स्तर की मिलेगी ॥

    ReplyDelete
  7. वर्तमान में कुकुरमुत्ते की तरह उग आई कान्वेंट शिक्षा पद्धति और शिक्षा माफिया पर करारी चोट है ....बधाई

    ReplyDelete
  8. उम्दा पोस्ट। प्रेरक व प्रशंसनीय।
    हिंदी मीडियम विद्यालयों में गिरता शिक्षा का स्तर भी इस अंधे दौड़ का प्रमुख कारण है। माता-पिता मात्र अंग्रेजी के लोभ में पड़कर ही अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों की ओर नहीं भागते, बल्कि इसलिए भी भागते हैं कि वे जानते हैं कि किस विद्यालय में कैसी पढ़ाई हो रही है।
    कामतानाथ की कहानी ‘दाख़िला’ पढ़ने व मंचन देखने की इच्छा बलवती हो गई है।
    ..आभार।

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुंदर ओर आंखे खोलने वाली कहानी धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. Siddharth ji,
    here i would love to extend my heart felt thanks for posting the report of the play "Dakhila.Com " on your esteemed blog.
    Sir, very humbly, i'm sharing some information regarding the play. The title of the original story is " HAL HONA EK KATHIN SAMASYA KA" penned by well known novelist and story writer sri Kamtanath and it's adaptation as a play had been done by me and one Suresh Lahari who also acted as ' Dabbo ke papa ' in it's innaugural show staged at a very prestigious commedy theatre festival at Lucknow.
    Thanks once again,
    with regards,
    Akhilesh Dixit

    ReplyDelete
  11. दाखिला के माध्यम से हिन्दी के प्रचार प्रसार का अप्रतिम प्रयास परन्तु हम सब इसे कितना कार्यान्वित करते,महत्वपूरण यह है. पड कर अच्छा लगा. सर को कोटिश:बधाई.
    विनय

    ReplyDelete
  12. इसका लिंक गूगल बज पर
    http://www.google.com/buzz/sinhamahesh/RYHzvVb4LqD/5-photos

    ReplyDelete
  13. dil khush ho gaya, naa kevak natak ki report padh kar balki yah padhkar ki demand ke chalte 2bara show karwana padaa, kaash, har hindi natak ke sath aisa hi ho....

    aur upar se aapne youtube par link dekar to char chand lagaa diye, mann pasanna ho gaya....shukriya aapko.

    ReplyDelete
  14. सुन्दर है! शानदार है। मजेदार है। शुक्रिया भी है वीडियो क्लिप्स लगाने का।

    इसे तभी पढ़े जब पोस्ट हुआ था। टिपिया आज रहे हैं। संग में अनुराग श्रीवास्तव की पोस्ट का लिंक दे रहे हैं। देखियेगा चार भाग में है। स्कूल में भरती के किस्से हैं। :)

    http://pagdandi1.blogspot.com/2007/01/1.html

    ReplyDelete
  15. mazaa aa gaya yaar... ek bhuktbhogi hoon atah dubaara un bhugate hue palon ko jee liya.... ek baar fir iss naarkeey yantranaa ke daur se gujarana padega...bangalore sthanantaran ke kaaran... bas aise hi madhyamvarg ki jeevanyatra yantranaa ban jaati hai.... khair...yeh bhi na rahegaa...

    ReplyDelete
  16. नाटक बहुत ही बढ़िया जान पड़ता है. यू ट्यूब पर फंनन्न भैया वाला अंश देखा. कहानी बहुत ही मज़बूत है और अभिनय अच्छा.

    वर्धा सम्मलेन के बारे में एक पोस्ट लिखिए. आपकी नज़र से वर्धा सम्मलेन के बारे में जानने के लिए मन उत्सुक है. अगर कहीं और पोस्ट की गयी है तो कृपा करके लिंक दें.

    आभार
    मनोज खत्री

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारे लिए लेखकीय ऊर्जा का स्रोत है। कृपया सार्थक संवाद कायम रखें... सादर!(सिद्धार्थ)