हमारी कोशिश है एक ऐसी दुनिया में रचने बसने की जहाँ सत्य सबका साझा हो; और सभी इसकी अभिव्यक्ति में मित्रवत होकर सकारात्मक संसार की रचना करें।

Friday, April 30, 2010

ग्यारह साल पूरे…

 

लगता है कल ही की बात है

जब हम थे कुआँरे

निपट बेचारे

फिर बारात सजाकर

गये थे दूल्हा बने

सबने नाच-नाच कर जश्न मनाया

ससुरालियों ने हमें खूब बनाया

लेकिन हमें खूब भाया

रचना से सृजन

सुनहरा दौर शुरू हुआ

पहले बेटी, फिर बेटा

वागीशा, सत्यार्थ

उसके बाद सत्यार्थमित्र

फिर उसका पुस्तक प्रकाशन

देखते ही देखते

मैं तो सर्जक हो चला

अचानक नहीं, शनै: शनै:

आज ग्यारह साल पूरे हो गये

Copy of 30042010689बेटे को कुछ नहीं चाहिए

बस आइसक्रीम

माँ के हाथों

बेटी अपने में मगन

छूना चाहे गगन

सब कुछ अच्छा सा

और क्या?

सबने स्नेह बरसाया

ईश्वर तेरा धन्यवाद

(सिद्धार्थ)

 

Technorati Tags:

27 comments:

  1. अरे भई ...! ये तो बहुत ख़ुशी की बात है मुबारक हो ...ढेरों शुभकामनाएं

    http://athaah.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. आपको वैवाहिक वर्षगाँठ की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  3. आपको वैवाहिक वर्षगाँठ पर हार्दिक बधाई, अब उधर भी बधाई देने जा रहा हूँ भाई!

    ReplyDelete
  4. Vak aur Saty jab sath hon to arth siddh hota hi rahega mitr. Isiliye to aap arth siddh ho ya siddh arth ya siddharth. jiska arth siddh ho vahi sarth bhi hota hai yani arthpurn ya sarthak. yah sarthakata hi rachna ka anivary tatv hai. Arth se dharm aur kam(nayen)apne aap pure ho jaate hain. Ab rachna ko mukti(moksh) ke liye lagana hai. Mukti mrityu ke bad vali nahin jiteji. aap ke shabd logon ko aanand de saken, yahi to mukti hai. Aur aap ke charon purusharth pure hue. Bahut-bahut shubhashansayen. Aap ki kavita padhkar mujhe bhi 12 May yad aa gayee. Kuchh hi din baki hain.

    ReplyDelete
  5. वाह! क्या अंदाज है यह बताने का कि आज मेरी शादी की ग्याहरवीं साल गिरह है!

    बहुत-बहुत बधाई
    चलिए मनाने के बाद ही सही
    आपको अपने ब्लागर बंधुओं को
    बताने की सुध आई.

    खुशी के लम्हें कितने करीब से होकर गुजर जाते हैं
    वे खुशनसीब हैं
    जो महसूस कर पाते हैं!

    ..बेटे को कुछ नहीं चाहिए
    बस आइसक्रीम
    माँ के हाथों
    बेटी अपने में मगन
    छूना चाहे गगन
    सब कुछ अच्छा सा
    और क्या?..

    वाह!
    इन शब्दों से झलकता संतोष ही तो है असली राज
    खुशी का.

    एक बार पुनः
    बधाई हो बधाई
    यह कितना सुखद है
    कि कोषाधिकारी महोदय की शादी की सालगिरह
    ३१ मार्च के
    एक महीना बाद आई

    ReplyDelete
  6. विवाह की वर्षगांठ मुबारक हो!

    ReplyDelete
  7. आपको वैवाहिक वर्षगाँठ की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  8. वैवाहिक वर्षगाँठ पर हार्दिक बधाई एवं अनेक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  9. वैवाहिक वर्षगाँठ की हार्दिक बधाई,शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  10. बधाई जी बधाई

    ReplyDelete
  11. 11 वर्षों की उपलब्धि को सुघड़ता से पिरो दिया शब्दों में ।

    ReplyDelete
  12. सफ़लतापूर्वक ११ वर्ष पूर्ण करने पर दंपत्ति को शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  13. वैवाहिक वर्षगाँठ की बहुत बधाई और शुभकामनायें ...!!

    ReplyDelete
  14. आप दोनो को बहुत बहुत बधाई ओर शुभकामनायें

    ReplyDelete
  15. आपको वैवाहिक वर्षगाँठ की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  16. विनोद शुक्लSaturday, 01 May, 2010

    तुम दोनों सुन्दर छवि लेकर रहो प्रेम में मग्न।
    दोनों के मानस हो मंगलमय भावों में लग्न।
    देखो शत शरदों की शोभा जियो सुखी सौ वर्ष।
    सुनो कोकिला के कलरव में सौ बसन्त के हर्ष॥
    छाया करती रहे सदा एक दूजे की छांह।
    सुख दुख में ग्रीवा के नीचे हो प्रियतम की बांह।।

    जीवन ऐसे ही हंसते खेलते गुजर जाये।
    ग्यारह वर्ष तो क्या एक सौ ग्यारह वर्ष गुजर जायें॥
    हम सबकी ढेरों शुभ कामनाएं॥

    ReplyDelete
  17. वैवाहिक वर्षगाँठ पर हार्दिक बधाई....ढेरों शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  18. ग्यारह साल पूरे होने का अन्दाज़े बयाँ बेहद खूबसूरत... शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  19. बहुत बधाई बन्धु!
    इसी २६ को हमारी शादी को भी तीन दशक हुये!

    ReplyDelete
  20. "शनै: शनै: बढ़ते रहे हैं
    शनैः शनैः बढ़ते रहें
    शनै: शनै: ही सही
    नित नई बुलंदियाँ गढ़ते रहें"
    देर से ही सही आपको वैवाहिक वर्षगाँठ की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  21. आप दोनों को वैवाहिक वर्षगाँठ की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  22. वाह, वाह! शादी के बहाने आप कविता भी गढ़ दिये। बधाई!

    ReplyDelete
  23. एक साल विलम्बित बधाई हमसे भी ले लीजिए...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारे लिए लेखकीय ऊर्जा का स्रोत है। कृपया सार्थक संवाद कायम रखें... सादर!(सिद्धार्थ)