हमारी कोशिश है एक ऐसी दुनिया में रचने बसने की जहाँ सत्य सबका साझा हो; और सभी इसकी अभिव्यक्ति में मित्रवत होकर सकारात्मक संसार की रचना करें।

Tuesday, March 2, 2010

ताजा हवाओं ने कहला दी एक ग़जल…

 

पिछले दिनों त्रिवेणी महोत्सव की धूम में एक बहुत अच्छे कार्यक्रम की चर्चा करने से चूक गया था। मैने पहले भी आपलोगों का परिचय इमरान प्रतापगढ़ी और उनकी संस्था ताजा हवाएं से कराया था। इस नौजवान शायर में कुछ अलग हटकर अनूठे सांस्कृतिक आयोजन करने का उत्साह देखते ही बनता है। मई २००८ में ब्लॉगरी की कक्षा लगाने का प्रयोग इन्हीं के माध्यम से सफ़ल हो पाया था।

गत २१ फरवरी को रविवार के दिन इन्होंने उत्तर प्रदेश और आसपास के अनेक सरकारी अधिकारियों को इकठ्ठा कर लिया। किसी मीटिंग आदि के लिए नहीं बल्कि उनके भीतर बसे कवि और शायर को सम्मानित करने के लिए तथा उनसे काव्य पाठ सुनवाने के लिए। इसमें नीतिश्वर कुमार जैसे आई.ए.एस. अधिकारी भी थे तो रिज़वान अहमद व एस.पी. श्रीवास्तव जैसे वरिष्ठ आई.पी.एस. अधिकारी भी थे। इन्द्रमणि जैसे रेलवे के विजिलेन्स अफ़सर भी थे राजकुमार सचान जैसे वरिष्ठ पी.सी.एस. अधिकारी भी। प्रशासनिक व्यस्तता के कारण कई अधिकारी अन्तिम क्षणों में न आ सके। इन अधिकारियों की खासियत यह थी कि इन लोगों ने एक मन्च पर पाल्थी मारकर बैठे हुए जूनियर-सीनियर का प्रोटोकॉल दरकिनार करके विशुद्ध काव्यरस का आदान-प्रदान किया। प्रायः सभी अधिकारी कवियों ने अपनी काव्य प्रतिभा से चमत्कृत कर दिया। कुछ चुनिन्दा रचनाओं की रिकॉर्डिंग मैं अगली पोस्टों में सुनवाने का प्रयास करूंगा।

अभी तो मैं यह बताना चाहता हूँ कि इस कार्यक्रम में बजने वाली तालियों ने मुझे कविताई की ओर बड़ी मजबूती से ढकेलना शुरू कर दिया। यमुना तट पर सितारों के जमघट, ट्रेजरी की नौकरी और होली की भागदौड़ के बीच कुछ शब्दों की जोड़-गाँठ रुक-रुककर चलती रही। आज जब होली की छुट्टी पूरी होने के बाद भी इलाहाबाद में एक दिन अतिरिक्त रंग खेला जा रहा है तो मैं घर में दुबका हुआ यह कारनामा पूरा करने में सफ़ल हो गया हूँ। अब गुणी जन इसे पढ़कर बताएं कि मुझे इस क्षेत्र में आगे बढ़ना चाहिए कि नहीं :)

 

दिल की हर बात सरे-राह निकाली नहीं जाती

प्यार की धड़कन पर दिल में दबा ली नहीं जाती

 

हमने देखे हैं बहुत लोग जिन्हें प्यार हुआ

पर ये दौलत सभी लोगों से संभाली नहीं जाती

 

था हुनरमन्द और गैरत-ओ- ईमान का पक्का

फिर भला कैसे उसकी उसकी पगड़ी उछाली नहीं जाती

 

बहुत गरीब था यह जुर्म किया था उसने

वर्ना मासूम उसकी बेटी उठा ली नहीं जाती

 

सितम तमाम दफ़न हैं चमकती खादी में

वर्ना हसरत वज़ीर बनने की पाली नहीं जाती

 

तंग नाले के किनारे जला लिया चूल्हा

कामगारों से भूख अब जरा टाली नहीं जाती

 

लूट, हत्या, गबन, फिरका परस्ती, महंगाई

इनसे अखबार की सुर्खी कभी खाली नहीं जाती

 

देख ‘सत्यार्थमित्र’ अपने रहनुमाओं को

जिनके घर सजते हैं हरहाल दिवाली नहीं जाती

-सिद्धार्थ 

 

चलते-चलते आपको अपने मित्र और उम्दा शायर मनीष शुक्ला की वो ग़जल सुनवाता हूँ जिसने उस प्रशासनिक अधिकारियों के कवि सम्मेलन में खूब तालियाँ बटोरी। मुझे विश्वास है ये आपको जरूर पसन्द आएगी।

 

वादा किया गया था उजालों का क्या हुआ...

22 comments:

  1. जुगनुओं के तल्ख सवाल! वाह!
    गज़ल ही है जिनमें जुगनू सवाल कर पाते हैं!

    ReplyDelete
  2. बढियां रिपोर्टिंग और आपकी गजल भी ....

    ReplyDelete
  3. लाजवाब रिपोर्ट के साथ गजल , बहुत ही बेहतरीन लगा ।

    ReplyDelete
  4. सोचेगा कौन रोशनी की भाग दौड़ में
    मिट्टी के दिए बेचने वालों क्या हुआ
    ...बेहतरीन गज़ल सुनवाई आपने.
    ..आभार.

    ReplyDelete
  5. बहुत गरीब था यह जुर्म किया था उसने

    वर्ना मासूम उसकी बेटी उठा ली नहीं जाती
    पुरी गजल ही बेहतरीन है, दर्द ओर मजबूरी
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  6. @ तंग नाले के किनारे जला लिया चूल्हा
    कामगारों से भूख अब जरा टाली नहीं जाती


    अजब संजोग है कि आज शाम यही दृश्य मुंबई के कमानी मिलिट्री कैंप से कुछ दूर देख आ रहा हूँ। काले पत्थरों वाले फुटपाथ के नीचे से सटे सूखे नाले में चूल्हा जलाये कई मजदूरों को देखा आज। बहुत अजीब लगा था यह दृश्य देख कि फुटपाथ से सटे नाले में चूल्हा जलाया गया है ताकि चूल्हे की दीवाल तीन ओर से बनाने के बजाय दो ओर से बना कर झटपट खाना बनाया जाय।
    शायद इन लाईनों पर मेरा ध्यान न जाता यदि आज के दृश्य को न देखता।

    बहुत सजीव लेखन है।

    ReplyDelete
  7. गज़ल कहने का आपका यह प्रयास सराहनीय है| जिन सामजिक सरोकारों को आपने संबोधित किया है वे बरबस ध्यान आकर्षित करते हैं| मनीष शुक्ल जी का कलाम बहुत पसंद आया| उन तक मेरी दाद जरूर पहुंचा दें| बहुत उम्दा अश'आर पेश किये हैं उन्होंने|आपको एवं मनीष जी दोनों को बधाई!

    ReplyDelete
  8. अगर ये आपकी पहली रचना है तो फिर तो मेरे लिए घोर आश्चर्य का विषय है

    बहुत सुन्दर भाव निकल कर आये है और हर शेर में आपकी कही बात सीधे दिल पर असर कर रही है

    बहुत सुन्दर प्रयास
    आगे भी सुनना और पढ़ना चाहूँगा

    ReplyDelete
  9. आप तो बढ़ चलो इस राह पर...जुगनू हमारे जैसे राह में रोशनी देते रहेंगे मिट्टी के दिये से बेहतर...विश्वास रखिये.

    ReplyDelete
  10. बहुत उम्दा रचना!

    ReplyDelete
  11. बहुत गरीब था यह जुर्म किया था उसने

    वर्ना मासूम उसकी बेटी उठा ली नहीं जाती...





    बहुत सुंदर ग़ज़ल.... उपरोक्त पंक्तियों ने तो दिल को छू लिया....



    बहुत सुंदर ग़ज़ल....



    आभार....

    ReplyDelete
  12. अरे क्या गजब-गजब शेर कह डाले ! बधाई!
    जन्म दिन भी साथ में मुबारक हो!

    ReplyDelete
  13. Bahut khub. Pitare se ab gajal bhi nikalne lage........
    Mujhe to hai vishvas ki abhi bahut kuchh daba pada hai yaha,vakt sang intjar hai kaha tak dekh pata hai jahan.
    wishing you very very happy birth day.....

    ReplyDelete
  14. हेप्पी बड्डे :)

    ReplyDelete
  15. रफ़्ता रफ़्ता आप तो पूरे गज़लगो हो गये !

    जन्मदिवस मुबारक !

    ReplyDelete
  16. ग़जल के व्याकरण का ज्ञान मुझे नहीं है लेकिन भाव सरिता का प्रवाह और सरोकारों पर पैनी नज़र को तो दाद दे ही सकता हूँ। एक से बढ़ कर एक। 'संगति कीजै साधु की' ऐसे ही नहीं कहा गया है।
    जन्मदिन की एक बार पुन: बधाइयाँ।
    मैं बहुत पहले ही कह चुका हूँ कि कविताओं के लिए अलग ब्लॉग बनाओ लेकिन घर की मुर्गी साग बराबर। दुनिया जहान मे गुणी जन खोजते और उनसे सलाह माँगते फिर रहे हो।

    ReplyDelete
  17. होली के मौके पर इतनी गंभीर कविता सुना डाली आपने । सारी भंग उतार डाली आपने । खैर होली की देर से ढेर सारी शुभकानाएं । हैप्पी होली आप सब को ।

    ReplyDelete
  18. हमने देखे हैं बहुत लोग जिन्हें प्यार हुआ

    पर ये दौलत सभी लोगों से संभाली नहीं जाती



    था हुनरमन्द और गैरत-ओ- ईमान का पक्का

    वर्ना तय था कि उसकी पगड़ी उछाली नहीं जाती

    पूरी गज़ल ही लाजवाब है। और रिपोर्टिंग पढ कर खुशी हुयी कि लोग बहुत अच्छे प्रयास कर रहे हैं साहित्य के प्रति लोगों मे जागरुकता लाने के लिये । धन्यवाद

    ReplyDelete
  19. chuhe ki katha bahut achhi hai,ghazal mein achhi tab azmaeesh ki hai,jari rakhiye...manish

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारे लिए लेखकीय ऊर्जा का स्रोत है। कृपया सार्थक संवाद कायम रखें... सादर!(सिद्धार्थ)